Midnight Poets Quest ~ Special Selections Entry 3

inkblood contest_critics choice_wordpress 3

ड्रैगनफ्लाई

बचपन के सुने आंगन की चारदीवारी में
दो कौतुहल आँखों से उम्मीद को उतरते देखा,
पारदर्शी पंखो से सजे, किसी परीलोक के दूत सा
कुछ रंगीन किरणों की चमक आँखों में बसा
एक अल्हड़ बेल की छोर पे जा बैठा ड्रैगनफ्लाई
किलकारी की छ्टा सी बिखर गयी बादलों में
इन्द्रधनुष के तार भी छेड़ गया खयाली, फिर …
भाग छू लेना चाहा था मैंने, मेरे बचपन को …

By Mr. Amit Sinha

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s